इंदिराजी को हो गया था मौत का अंदेशा, क्या है हत्या के दिन की कहानी?

Indra Gandhi Assassination

हत्या के बाद राजीव बने थे देश के प्रधानमन्त्री

31 अक्टूबर 1984 को उन्हीं के दो अंगरक्षकों ने उनके आवास पर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी| जिसके बाद हिंसा भडक गई थी| इंदिरा की हत्या के बाद सिखों को निशाना बनाया गया |

हिंसक झड़पो में कई बेगुनाह सिख मारे गए,घरों और उनकी दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया था| दंगे भडकने के बाद दिल्ली में चार से ज्यादा लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया और सेना को हाई अलर्ट पर रखा गया| इंदिरा 16 साल तक प्रधानमन्त्री रहीं|

उनके शासनकाल में कई उतार-चढ़ाव आए, लेकिन 1975 में आपातकाल लागू करने के फैसले को लेकर इंदिरा को भारी विरोध प्रदर्शन और तीखी आलोचनाएं झेलनी पड़ी थी|

Updated: October 31, 2017 — 3:18 pm
Currentoid (Worldwide News & Innovation) © 2017 Frontier Theme